सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Ayurveda life

Ayurveda life styleAyurveda



Ayurved ke bare me kuch जानकारियां।।।।।।

प्राचीन भारत में आयुर्वेद  पद्धति द्वारा बड़ी से बड़ी
बीमारियों का इलाज किया जाता था ।
आज हम अगर एलोपैथिक दवाओं के आगे उस पद्धति को 
भूलते जा रहे हैं तो ये हमारी सबसे बड़ी भूल है ।
क्यों कि उस एक भूल के कारण हम प्राकृतिक वनस्पतियों 
को धीरे धीरे नाश करते जा रहे हैं।
क्यों की अयुर पद्धति में जितनी भी बीमारियों का इलाज 
होता है ओ प्रकृति वनस्पतियों , जड़ी बूटियों से बनाई हुई 
दवाओं से ही होता है ।
आयुर्वेद के दवाओं के सेवन में रोगी को  अपने दैनिक जीवन। में कुछ चीजों को परहेज करने की जरूरत होती है तथा 
बीमारी के हिसाब से समय थोड़ा ज्यादा लगता है । पर 
आयुर्वेदिक उपचार से रोगी का रोग जड़ से समाप्त भी हो 
जाता है ।
हमारे देश में वैदिक काल से ही इस पद्धति का उपयोग 
होते आ रहा है धनवंतरी को आयुर्वेद का जन्म दाता कहा जाता है , चरक संहिता, में हर एक बीमारियों और उनके इलाज। के बारे में बताया गया है जो आज भी कुछ संतो , आचार्यों ,
और आयुर्वेद डाक्टरों ने इस पद्धति को जीवंत रखा है ।
आज विश्व के कोने कोने में आयुर्वेद का प्रयोग होने लगा है 
आज। के। समय में लोगों में आयुर्वेद के प्रति रुझान बढ़ा
है । लोग अपने दैनिक। जीवन में इसका। इलाज , प्रयोग करने लगे हैं। इसका मात्र कारण आयुर्वेद। के प्रति लोगों में विश्वास
और एलोपैथिक दवाओं के सेवन से शरीर का नुकसान 
एलोपैथिक चिकित्सा से हम ठीक तो। जल्दी हो जाते हैं 
पर वो हमारे शरीर को। स्वस्थ करने के साथ शरीर में 
मौजूद कई बैक्टीरिया को हानि पहुंचा जाता है जो कुछ 
दिनों।, महीनों, सालों बाद हम किसी और रोग का शिकार हो जाते हैं। पर आयुर्वेद के इलाज। में। ऐसा। नहीं होता हैं ।
दैनिक जीवन में हो रहे कुछ बीमारियों के इलाज 
आप को इस लेख के माध्यम से जानकारी मिल जाएगी।
जिसका प्रयोग कर के आप अपने जीवन को स्वस्थ 
बना सकते हैं ।

High and low BP


Ayurved a life me high BP के लिए एक असर कारक 
घरेलू उपाय जिसके करने के बाद आप को बहुत ही जल्दी 
परिणाम देख ने को मिल सकता है ।
ज्यादा तर लोगो का ब्लड प्रेसर लो या हाई  हो जाति है तो वो 
दैनिक जीवन में नमक का प्रयोग करते हैं।
जब लो bp होता है तो नमक का प्रयोग ज्यादा कर के 
या कॉफी का सेवन करके उसे मेंटेन करने की कोशिश
करते हैं। पर इन सब से bp मेंटेन नहीं हो पाता है फिर लास्ट में 
एलोपैथिक दवाओं का सेवन करने लगते हैं । जो बाद 
में कई बीमारियों को जन्म। देती है ।
पर आज आपको ऐसा आयुर्वेद नुक्सा बताने जा रहे। हैं जिससे 
आप को एक हप्ते के अंदर आप अपने ब्लड प्रेसर के हाई , लो 
के टेंशन से फ्री हो जाएंगे ।
करना क्या है आप को दो गिलास पानी लेना है।
उसके बाद उसमें रोजमर्रा हमारे खाने में प्रयोग होने वाले 
मसालों से दस ग्राम या एक बड़ी चम्मच  पीसी हुई दालचीनी लेना है फिर दालचीनी के साथ पंद्रह से बीस
ग्राम गुड़   लेकर उस दो। गिलास पानी में डाल कर 
उस पानी को तब तक पकाना है जबतक वो एक गिलास 
ना रह जाए फिर उसको छान कर सुबह खाली पेट 
सेवन करना है , इसके सेवन से चार , पांच दिन में ही आपको 
खुद पता चल जाएगा कि कितना फायदा हुआ , इस तरह 
आप का बीपी की समस्या ठीक हो जाएगी और आप स्वस्थ 
रहने लागोगे और आपकी लाइफ free BP Life 
हो जाएगी । एक बार आजमा कर देखिए  धन्यवाद।।।

Note::::::

ये आयुर्वेदिक उपचार है इसका आज तक  कोई साइड इफेक्ट्स नहीं देखा 
गया है अगर आप को कोई इससे परेशानी हो तो डॉक्टर की सलाह ले 
क्यों की ये आयुर्वेदिक डॉक्टर द्वारा बताया हुआ नुख्शा है ।thanks

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Covid19.mhpolice.in

Bollywood, Hollywood, actor IRFAAN KHAN

Irfan khan परिचय (introductions)पूरा नाम , साहेबजादे  इरफ़ान अली खान जिसको आसान भाषा में फिल्म जगत में इरफ़ान खान से जाना गया । इरफ़ान खान एक मुस्लिम परिवार  जयपुर में एक मध्यम परिवार पठान जाति में  पैदा हुए । भारत का वो जयपुर  शहर जिसे गुलाबी सिटी के नाम से भी जानते हैं । इनकी जीवन साथी का नाम सुतापा सिकंदर है को  कालेज के दिनों से इनकी साथी रहीं। इनके आज दो बच्चे हैं जिनका नाम बाबिल और अयान है । इनके पिता का नाम जहांगीर खान  जो टायर का कारोबार करते थे  लगभग १९७७ में जन्में इस महान व्यक्ति 53 साल 29/04/2020 में स्वर्गवास हो गया आज Bollywood का ये  सितारा दुनिया को अलविदा कह गए  भगवान इनकी आत्मा को शांति दे । इरफ़ान खान की परिवारिक जिंदगी (Irfan Khan's family life)
इरफ़ान खान की family Life बहुत ही साधारण थी  अपने किशोर अवस्था इन्होंने घर पर ही पढ़ाई पूरी  की इनके पिता  कभी कभी मजाक में इनको इरफ़ान पंडित भी कहकर बुलाते थे। क्यों कि ये मुस्लिम परिवार में होकर नहीं  मांस, नहीं खाते थे। इनका पूरा जीवन शहाकरी व्यतीत किया। उनकी दिली तमन्ना थी कि वो एक सफल क्रिकेट बने  और उसके लिए उन्होंने कोशिश भी और उन्…
Loved boy (rishi Kapoor) दुनिया को अलविदा किया बॉली वुड का एक और सितारा(rishi Kapur)


परिचय (introdaction) Bollywoo के नीव कहें जाने वाले कपूर फैमिली  के 4 सितम्बर 1952 को जन्मे ऋषि कपूर का  मुंबई के रिलायंस हॉस्पिटल में आज 30/04/2020 को सुबह 8.30 बजे 67 साल की उम्र में निर्धन हो गया  दो साल से वो बांन कैंसर से पीड़ित थे जिसका इलाज  अमेरिका में चल रहा था कुछ दिन पहले वो मुंबई  अपने घर चले आए थे । परिवारिक जिंदगी (family Life)ऋषि कपूर का पारिवारिक जिंदगी बहुत ही अच्छा और  प्रसिद्ध कपूर फैमिली से जुड़ा था । वहीं कपूर फैमिली  जिसने बॉलीवुड को एक नए मुकाम पर ला कर खड़ा किया उनके दादा prithavi राज कपूर और पिता राज कपूर  जो बॉलीवुड के जाने माने अभिनेता और निर्देशक थे इनके अलावा इनके दो भाई रणधीर कपूर और राजीव  कपूर इनके परिवार में शामिल थे जिनके साथ इन्होंने  कंपियान स्कूल मुंबई और  मेयो कॉलेज अजमेर से शिक्षा ग्रहण किया । इनके परिवार के साथ इनके मामा प्रेम नाथ और राजेंद्र नाथ चाचा शशी कपूर और शम्मी कपूर भी इनके परिवार का कहे  या फिर बॉलीवुड फैमिली का एक हिस्सा थे  इनकी दो बहने रितु नंदा और रीमा जैन एक निर्देशक औ…