सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

About us

नमस्कार दोस्तों
मेरा नाम विजय कुमार चौधरी है हमारे अंदर जो भी ज्ञान है उसे अपने ब्लॉगर के माध्यम से आप सभी के सामने रखने की कोशिश कर रहा हूं जिसका यूआरएल,,,gyanibharat.com के नाम से बनाया हूं 
आप इस साइट पर जाकर हमारे उस लेख को पढ़ सकते हैं और उससे जो 
सीख आप को मिलती है या उसे पढ़ कर आप जो भी अच्छा लगता है वो अपने जीवन में उतार सकते हैं 
आप सभी को मालूम हो कि ए सिर्फ किताबों से नहीं अपितु जीती जागती 
जिंदगी के अनुभवों (तजुर्बे ) से इस लेख को लिखा हूं। 
मै ज्यदा पढ़ा लिखा नहीं हूं १४ साल की उम्र में ही घर छोड़ दिया था उस समय class 9 me पढ़ रहा था कुछ हालात ऐसे थे जो में आप इस लेख में बताता रहूंगा और इस ब्लॉग मै आप को और भी देश दुनियां से जुड़ी 
जानकारियां मिलती रहेंगी 
अगर इसमें कोई गलती आप को मिलती है तो उसके लिए हम क्षमा 
चाहेंगे और कुछ सुझाव प्रतिक्रिया आप देना चाहते हैं तो हमारे 
ईमेल vis4u21@gmail.com दे सकते हैं मै उसका जवाब आप को 24
घंटे मिल जाएगा धन्य वाद।।।।

About us:- 
Name- Vijay Kumar choudhary
City- maharajgang
State- Uttar pradesh india
pin 273304
contact:- vis4u21@gmail.com


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Covid19.mhpolice.in

Covid19.mhpolice.in

Bollywood, Hollywood, actor IRFAAN KHAN

Irfan khan परिचय (introductions) पूरा नाम , साहेबजादे   इरफ़ान अली खान जिसको आसान भाषा में फिल्म जगत में इरफ़ान खान से जाना गया । इरफ़ान खान एक मुस्लिम परिवार  जयपुर में एक मध्यम परिवार पठान जाति में  पैदा हुए । भारत का वो जयपुर  शहर जिसे गुलाबी सिटी के नाम से भी जानते हैं । इनकी जीवन साथी का नाम सुतापा सिकंदर है को  कालेज के दिनों से इनकी साथी रहीं। इनके आज दो बच्चे हैं जिनका नाम बाबिल और अयान है । इनके पिता का नाम जहांगीर खान  जो टायर का कारोबार करते थे  लगभग १९७७ में जन्में इस महान व्यक्ति 53 साल 29/04/2020 में स्वर्गवास हो गया आज Bollywood का ये  सितारा दुनिया को अलविदा कह गए  भगवान इनकी आत्मा को शांति दे । इरफ़ान खान की परिवारिक जिंदगी (Irfan Khan's family life) इरफ़ान खान की family Life बहुत ही साधारण थी  अपने किशोर अवस्था इन्होंने घर पर ही पढ़ाई पूरी  की इनके पिता  कभी कभी मजाक में इनको इरफ़ान पंडित भी कहकर बुलाते थे। क्यों कि ये मुस्लिम परिवार में होकर नहीं  मांस, नहीं खाते थे। इनका पूरा जीवन शहाकरी व्यतीत किया। उनकी दिली तमन्ना थी

Nathu ram godse

सुप्रीम कोर्ट से अनुमति मिलने पर प्रकाशित किया गया  60 साल तक भारत में प्रतिबंधित रहा नाथूराम गोडसे  का अंतिम भाषण -